Business: मालामाल कर देगी रबड़ की खेती, 40 साल तक होगी तगड़ी कमाई

Business: रबड़ की खेती करने वाले लोगों को केंद्र सरकार के साथ-साथ विश्व बैंक से भी सहायता मिलती है. जंगली रबड़ के पेड़ 43 मीटर तक ऊंचे हो सकते हैं.दूसरी ओर खेती के लिए उगाये गए रबड़ के पेड़ थोड़े छोटे होते हैं.

Rubber plant

रबर के पेड़ से इकठ्ठा किया गया तरल.

Business Idea: अगर आप कृषि के क्षेत्र में लम्बे समय तक अच्छी कमाई  करना चाहते हैं तो आज हम आपको एक बेहतरीन बिजनेस आइडिया देने जा रहे हैं.अधिकतर किसान आज कल पारंपरिक खेती के साथ-साथ नगदी फसलों पर भी ध्यान दे रहे हैं. इसे देखते हुए आप चाहे तो रबड़ की खेती कर के अच्छी कमाई कर सकते हैं. रबड़ की खेती में भारत पूरे विश्व में चौथे स्थान पर आता है. भारत में कई किसान रबड़ की खेती कर अच्छी कमाई कर रहे हैं. भारत में सबसे अधिक रबड़ का उत्पादन केरल में होता है वही दूसरे नंबर पर त्रिपुरा राज्य है. इन दोनों राज्यों से रबड़ विदेशों में भी निर्यात होता है.

भारत की रबड़ बोर्ड के मुताबिक-त्रिपुरा में 89,264 , असम में 58,000, मेघालय में 17,000, नागालैंड में 15,000  मणिपुर में 4200, मिजोरम में 4070, और अरूणाचल प्रदेश 5820  हेक्टेयर की जमीन पर रबड़ की खेती होती है.

जलवायु की स्थिति-

इस फसल की खेती के लिए लाल मिट्टी की आवश्यकता होती है .खेती के लिए उपयोग में लाए जाने वाली मिट्टी की पीएच वैल्यू 4.5 से 6.0 क बीच होनी चाहिए. सूखापन में पौधा बहुत कमजोर हो जाता है इसलिए इसे हमेशा पानी देने की जरुरत होती है.

 सरकार से मिलती है मदद-

रबड़ की खेती करने वाले लोगों को केंद्र सरकार के साथ-साथ विश्व बैंक से भी सहायता मिलती है. जंगली रबड़ के पेड़ 43 मीटर तक ऊंचे हो सकते हैं.दूसरी ओर खेती के लिए उगाये गए रबड़ के पेड़ थोड़े छोटे होते हैं.

इस तरह से निकला जाता है पेड़ से रबड़- 

सबसे पहले रबड़ के पेड़ में छेद कर दिया जाता है.उसमे से निकलने वाले पदार्थ को दूध की तरह इकठ्ठा किया जाता है.उसके बाद रबड़क्षीर को केमिकल प्रोसेस करके अच्छी क्वालिटी का रबड़ तैयार किया जाता है.

यह भी पढ़ें-Petrol-Diesel Price: पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, जानिए क्या है आपके शहर में भाव?

ऐसे इस्तमाल में लाया जाता है रबड़ को-

रबड़ के पेड़ से निकले गए तरल पदार्थ को अच्छे से सुखाया जाता है ताकि रबड़ शीट या अन्य प्रोडक्ट बनाया जा सके. इस्तमाल में लाया जाने वाला रबड़ कई तरह के प्रोसेस से होकर गुजरता है. रबड़ का मुख्य इस्तमाल गाडी के पहिये अथवा टायर के ट्यूब बनाने के काम में आता है.

 

-भारत एक्सप्रेस    

Also Read