Maharashtra News: श्मशान में शख्स ने दी बर्थडे पार्टी, बच्चे-महिलाओं समेत 100 से ज्यादा गेस्ट पहुंचे, केक के साथ परोसी गई बिरयानी

Maharashtra News: महाराष्ट्र के एक निवासी ने समाज में व्याप्त अंधविश्वासों के खिलाफ संदेश देने के लिए अपना जन्मदिन श्मशान घाट में मनाया. इस जन्मदिन समारोह में 40 महिलाओं और बच्चों सहित 100 से अधिक मेहमान शामिल हुए थे.

श्मशान में शख्स ने दी बर्थडे पार्टी

Maharashtra News: अक्सर लोग अपने जन्मदिन को खास बनाना चाहते हैं, जिसके लिए सब अलग-अलग तरीके अपनाते हैं. कोई हिल स्टेशन, होटल या फिर कहीं बाहर जाकर अपना बर्थडे मनाते है तो कोई घर में केक काटकर. लेकिन एक ऐसा भी शख्स है जिसने अपना बर्थडे ना ही हिल स्टेशन, ना ही घर और ना ही किसी होटल में सेलिब्रिट किया है. जी हां महाराष्ट्र के रहने वाले इस शख्स ने अपना बर्थडे श्मशान घाट पर केक काटकर मनाया है.

समाज में व्याप्त अंधविश्वासों के खिलाफ संदेश दिया

महाराष्ट्र के ठाणे जिले के कल्याण शहर के निवासी ने समाज में व्याप्त अंधविश्वासों के खिलाफ संदेश देते हुए अपना जन्मदिन श्मशान घाट में मनाया है. शख्स के इस अनोखे अंदाज की चर्चा चारों ओर हो रही है.

ये भी पढ़ें- ब्रिटिश मछुआरे के हाथ लगी 30 किलो की Goldfish, क्या बन पाएगा World record?

केक के साथ ही बिरयानी भी सर्व

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, श्मशान घाट में अपना जन्मदिन मनाने वाले इस शख्स का नाम गौतम रतन मोरे बताया जा रहा है. गौतम रतन मोरे ने 19 नवंबर को अपना 54वां जन्मदिन मनाया है. अपने जन्मदिन के अवसर पर उन्होंने शनिवार की रात मोहनी श्मशान घाट में बर्थडे पार्टी का आयोजन किया, साथ ही वहां खाने पीने की भी अच्छी व्यवस्था की गई थी. जहां आए मेहमानों को केक के साथ ही बिरयानी भी सर्व की गई.

श्मशान घाट में अपना जन्मदिन मनाने वाले गौतम ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि उनके जन्मदिन समारोह में 40 महिलाओं और बच्चों के साथ ही 100 से अधिक मेहमान शामिल हुए थे. इन सभी लोगों ने श्मशान घाट पहुंचकर उनके बर्थडे पार्टी को सेलिब्रिट किया है. केक काटने के साथ जन्मदिन के जश्न का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

ये भी पढ़ें- LPG Cylinders: एलपीजी गैस कनेक्शन पर मिलता है 40 लाख तक का बीमा कवर, जानें क्या है क्लेम का प्रोसेस

गौतम मोरे ने बताया कि उन्हें प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता सिंधुताई सपकाल और प्रसिद्ध तर्कवादी स्वर्गीय नरेंद्र दाभोलकर से इस आयोजन की प्रेरणा मिली थी, जिन्होंने अंधविश्वास और काला जादू के खिलाफ अभियान छेड़ा था. इस आयोजन को लेकर उन्होंने आगे कहा कि वह लोगों को ये संदेश देना चाहते हैं कि श्मशान घाटों और अन्य जगहों पर भूत मौजूद नहीं होते हैं.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read