लोकसभा चुनाव 2024 में किसी भी दल को समर्थन नहीं देगा BKU- राकेश टिकैत का ऐलान

Rakesh Tikait: राकेश टिकैत को 4 दिनों तक माघ मेले में ही रहना था, लेकिन सोमवार को वह बक्सर में रहेंगे और वहां से वापस माघ मेले में लौट जाएंगे.

Rakesh Tikait

किसान नेता राकेश टिकैत

BKU Leader Rakesh Tikait: किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि भारतीय किसान यूनियन अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में किसी भी राजनीतिक दल को अपना समर्थन नहीं देगा. वहीं राकेश टिकैत ने मौजूदा सरकार पर निशाना साधते हुए संकेत दिया कि उनके संगठन से जुड़े किसान लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ रहेंगे. टिकैत ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उन्हें भरोसा दिलाया कि जिन राज्यों में उनकी पार्टी की सरकार है, वहां किसानों के हित में जल्दी उचित कदम उठाए जाएंगे.

राकेश टिकैत ने यह भी बताया कि चुनाव से पहले राहुल गांधी किसान संगठनों के साथ बड़ी बैठक भी करेंगे. किसान नेता ने कहा कि आवारा जानवरों की वजह से किसानों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इस समस्या को दूर करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाए जाने से किसान नाराज हैं.

मीडियाकर्मियों से बात करते हुए राकेश टिकैत ने बीजेपी पर हमला बोला. इस दौरान उन्होंने कहा कि जहां भी किसानों पर अत्याचार होगा, वह उसका विरोध करेंगे. उन्होंने कहा कि वे किसानों पर अत्याचार का विरोध करेंहे चाहे वहां बीजेपी की सरकार हो या गैर-बीजेपी की.

बक्सर में किसानों के आंदोलन को समर्थन देने का ऐलान

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि 3 दिन पहले बिहार के बक्सर में किसानों पर लाठीचार्ज की घटना के विरोध में वह सोमवार को बक्सर जाकर वहां के किसानों द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन को अपना समर्थन देंगे. किसान नेता रविवार की रात को प्रयागराज के माघ मेले में पहुंचे थे. यहां उन्होंने किसानों से बातचीत की और उनके लिए लंगर भी तैयार किया.

ये भी पढ़ें: Nepal Plane Crash: मृतकों में गाजीपुर के चार लोग शामिल, सीएम योगी ने हादसे पर जताया दुख, पार्थिव शरीर को लाने की कोशिशें तेज

राकेश टिकैत को 4 दिनों तक माघ मेले में ही रहना था, लेकिन सोमवार को वह बक्सर में रहेंगे और वहां से वापस माघ मेले में लौट जाएंगे. माघ मेले में वापस लौटकर राकेश टिकैत संगम की रेती से किसानों के आंदोलन को लेकर कोई बड़ा ऐलान भी कर सकते हैं. बता दें कि किसान आंदोलन के बाद से ही राकेश टिकैत देश के कोने-कोने में किसानों से जुड़े मुद्दों को उठाते रहे हैं और इस दौरान वे केंद्र पर अक्सर हमलावर रहे हैं.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read