Sanju Samson: टीम इंडिया ने किया नजरअंदाज, अब इस देश से खेलने का मिला ऑफर!

इनसाइड स्पोर्ट्स की रिपोर्ट के मुताबिक संजू ने आयरलैंड के जवाब में कहा, बहुत-बहुत धन्यवाद. मैं समझ सकता हूं कि कभी-कभी हमें इंतजार करना पड़ता है, और मैं वर्तमान में अपने चयनकर्ता के कॉल का इंतजार कर रहा हूं, लेकिन…

Sanju Samson

Sanju V Samson (@imsanjusamson)/ Instagram

Sanju Samson: भारतीय टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन जब भी भारत के लिए खेलती हैं तो उनके शानदार प्रदर्शन के बावजूद टीम मैनेजमेंट उन्हें लगातार नजरअंदाज करता आया है. पहले बीसीसीआई (BCCI) ने सैमसन को टी20 वर्ल्ड कप की टीम से बाहर कर दिया है. उसके बाद बांग्लादेश के खिलाफ मौजूदा सीरीज के लिए भी उन्हें मौका नहीं मिला. उन्हें पहले न्यूजीलैंड दौरे के लिए चुना गया था, हालांकि उन्हें केवल एक गेम में भाग लेने का मौका मिला. आईपीएल में अच्छे प्रदर्शन करने वाले राजस्थान रॉयल के खिलाड़ी संजू सैमसन (Sanju Samso) ने कप्तानी में भी शानदार भूमिका निभाई. अब इनसाइड स्पोर्ट्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, आयरलैंड क्रिकेट टीम ने उन्हें एक प्रस्ताव दिया है. दरअसल, संजू सैमसन को देश के क्रिकेट अध्यक्ष द्वारा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आयरलैंड का प्रतिनिधित्व करने का मौका दिया गया था, जिन्होंने यह भी गारंटी दी थी कि संजू टीम की कप्तानी करेंगे और सभी खेलों में भाग लेंगे.

सैमसन ने क्या कहा?

इनसाइड स्पोर्ट्स की रिपोर्ट के मुताबिक संजू ने आयरलैंड के जवाब में कहा, बहुत-बहुत धन्यवाद. मैं समझ सकता हूं कि कभी-कभी हमें इंतजार करना पड़ता है, और मैं वर्तमान में अपने चयनकर्ता के कॉल का इंतजार कर रहा हूं, लेकिन मेरा सपना अभी भी भारतीय टीम के लिए खेलना है, और मैं कभी भी किसी अन्य देश के लिए नहीं खेलूंगा.

दरअसल, आयरलैंड को एक ऐसे खिलाड़ी की तलाश है जो शानदार बल्लेबाजी के साथ साथ टीम की कमान भी संभाल सके. बता दें, अगर संजू सैमसन ने ऑफर स्वीकार कर लिया होता तो उन्हें भारतीय क्रिकेट और इंडियन प्रीमियर लीग को अलविदा कहना पड़ता.

संजू सैमसन का इंटरनेशनल रिकॉर्ड

28 साल के संजू सैमसन ने अबतक भारत के लिए 16 टी20 इंटरनेशनल में 21.14 की औसत और 135.15 के स्ट्राइक रेट से 296 रन बनाए हैं. संजू ने सिर्फ 11 वनडे इंटरनेशनल मुकाबले खेले हैं, जिसमें उनके नाम पर 66 के एवरेज से 330 रन दर्ज हैं. बात अगर संजू की टीम इंडिया में खेलने के मौके की करे तो उन्हें कभी भी लगातार टीम में नहीं रखा गया, अगर वो टीम में रहते भी हैं तो उन्हें 1 या 2 मैच में प्लेइंग-11 में शामिल किया जाता है. फैंस भी टीम मैनेजमेंट के इस फैसले से खफा है क्योंकि ऋषभ पंत के मुकाबले सैसमन का खेल बेहतर है.

Also Read