Weekly Vrat Tyohar: व्रत और त्योहार के लिए खास है माघ मास का यह सप्ताह, इस दिन मौनी अमावस्या और षटतिला एकादशी

Weekly Vrat Tyohar: संक्रांति के बाद पड़ने वाला यह पहला सप्ताह धार्मिक कार्यों के लिहाज से भी बेहद खास है. आइए जानते हैं इस सप्ताह पड़ने वाले व्रत और त्योहारों के बारे में.

Weekly-Vrat-And-tyohar

साप्ताहिक व्रत और त्योहार

Weekly Vrat Tyohar: मकर संक्रांति से ही शुभ कार्यों की शुरूआत होने लगती है. ऐसे में संक्रांति के बाद पड़ने वाला यह पहला सप्ताह धार्मिक कार्यों के लिहाज से भी बेहद खास है. हिंदू पंचांग के अनुसार, माघ मास के इस सप्ताह में जहां मौनी अमावस्या, स्नान और व्रत के लिए काफी खास है, वहीं षटतिला एकादशी और प्रदोष व्रत जैसी महत्वपूर्ण तिथियों के चलते इस सप्ताह की महत्ता काफी बढ़ जाती है.

माघ मास के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि के साथ शुरु होने वाले इस सप्ताह का समापन माघ मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को हो रहा है. आइए जानते हैं इस सप्ताह पड़ने वाले व्रत और त्योहारों के बारे में.

षटतिला एकादशी

2023 के माघ मास में इस बार षटतिला एकादशी 18 जनवरी 2023, बुधवार को मनाई जाएगी. नाम के अनुरुप ही इस दिन तिल का दान और इससे बनी वस्तुओं का उपयोग करना शुभ माना जाता है. ज्योतिष के अनुसार 18 जनवरी के दिन पड़ने वाली षटतिला एकादशी पर शुभ मुहूर्त की शुरुआत 17 जनवरी 2023 को शाम 06 बजकर 05 मिनट से ही हो जाएगी.

वहीं इस इस एकादशी का समापन 18 जनवरी 2023 शाम 04 बजकर 03 मिनट पर होगा. वहीं व्रत का पारण 19 जनवरी को सुबह 07 बजकर 15 मिनट से 09 बजकर 29 मिनट के बीच किया जा सकता है. उदयातिथि के मुताबिक षटतिला एकादशी का व्रत 18 जनवरी को रखा जाएगा.

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष)

पंचांग के मुताबिक, प्रत्येक महीने की कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है. इस बार यह व्रत 19 जनवरी, गुरुवार 2023 के दिन पड़ रहा है. इस दिन गुरुवार होने के कारण इसे गुरु प्रदोष व्रत के नाम से भी जाना जाता है. गुरु प्रदोष के दिन भगवान शिव की पूरे विधि विधान से पूजा करने पर सभी तरह की मनोकामना पूरी होती है.

इसे भी पढ़ें: Magh Maas 2023: माघ मास की इन 4 तिथियों पर गंगा स्नान से पूरी होगी मनोकामना, प्रयागराज की महिमा अपरंपार

मौनी अमावस्या

माघ मास की अमावस्या को माघ अमावस्या, मौनी अमावस्या और माघी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है. माघ माह में मौनी अमावस्या के दिन नदियों के किनारे स्थित धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की काफी भीड़ रहती है. इस साल मौनी अमावस्या तिथि की शुरुआत 21 जनवरी शनिवार के दिन सुबह 06 बजकर 17 मिनट पर होगी. वहीं इसका समापन 22 जनवरी रविवार को सुबह 2 बजकर 22 मिनट पर होगा.

Also Read