Maa Baglamukhi Temple: मां बगलामुखी दिलाती हैं शत्रुओं पर विजय, इन जगहों पर हैं माता के मंदिर

Maa Baglamukhi: माना जाता है कि मां बगलामुखी सभी प्रकार के संकट और शत्रुओं से रक्षा करने वाली हैं. भारत में कई जगहों पर इनके मंदिर हैं.

baglamukhi mata

मां बगलामुखी के मंदिर

Maa Baglamukhi Temple: माना जाता है कि मां बगलामुखी सभी प्रकार के संकट और शत्रुओं से रक्षा करने वाली हैं. भारत में कई जगहों पर इनके मंदिर हैं. जहां भक्तों की कतार लगी रहती है. दस महाविद्याओं में बगलामुखी एक हैं. इसलिए मात्र इनके दर्शन से ही सभी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं. बगलामुखी माता के दरबार में छोटे से लेकर बड़े सभी अपनी फरियाद लेकर जाते हैं. इनकी पूजा का विशेष लाभ जातक को मिलता है. इसके अलावा माता के स्तोत्र को सुनने और पाठ करने से धन-धान्य, ऐश्वर्य और संतान सुख की प्राप्ति होती है. कानून से संबंधित मामलों में भी लाभ मिलता है. आईए जानते हैं, भारत में कहां-कहां मां बगलामुखी के मंदिर हैं. जहां दर्शन मात्र से ही सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

मां पीतांबरा

मध्य प्रदेश के दतिया में स्थित मां बगलामुखी का मंदिर सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है. माना जाता है कि यह मंदिर महाभारत कालीन है. यहां स्थित मां के पीठ को पीतांबरा पीठ के नाम से भी जाना जाता है.

वनखंडी

मां बगलामुखी का एक मंदिर हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित है. यह जिले के वनखंडी नामक स्थान पर है. मंदिर को श्री 1008 बगलामुखी वनखंडी मंदिर के नाम से जाना जाता है. स्थानीय और दूर दराज से लोग मां के दर्शनों के लिए आते हैं.

मां बमलेश्वरी

यह मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांद गांव जिले से लगभग 40 कि.मी. की दूरी पर है. मंदिर यहां पर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है. हर साल इस जगह नवरात्रि के अवसर पर बहुत ही विशाल मेला लगता है.

त्रिशक्ति माता

मध्य प्रदेश के नलखेड़ा में स्थित माता का यह मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है. इसे बहुत ही जागृत मंदिर माना जाता है. नवरात्रि के अवसर पर इस मंदिर में दूर-दूर से तंत्र-मंत्र के जानकार आते हैं और तमाम तरह से मां बगलामुखी की उपासना करते हैं. 

कोटला

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित माता का यह मंदिर विशेष तौर पर श्रद्धालुओं की मनोकामनापूर्ति के लिए जाना जाता है. माना जाता है कि इस मंदिर में मां बगलामुखी की पूजा से नवग्रहों से जुड़े दोष भी दूर होते हैं.

Also Read