सेहत के लिए मीठा जहर है आपका स्मार्ट फोन

मोबाइल रेडिएशन का सेहत पर नकारात्मक असर

मोबाइल फोन रेडिएशन इम्पेकट

मोबाइल हमारी जिंदगी का बेहद ही अहम हिस्सा है, जिसके बिना हम एक मिनट भी गुजारना पसंद नहीं करते हैं. हमारे ऑफिस से  लेकर पढ़ाई तक के सारे काम हम मोबाइल पर करते हैं. लेकिन आप जानते हैं कि मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल आपकी बॉडी पर साइड इफेक्ट भी डालता है. हम ज्यादा से ज्यादा वक्त मोबाइल के साथ गुजारते हैं और मोबाइल से निकलने वाले रेडिएशन हमारी सेहत और आंखों को नुकसान पहुंचाते हैं.

घर हो या दफ्तर, ज्यादा से ज्यादा वक्त हम मोबाइल और लेपटॉप पर चैटिंग और ब्राउजिंग करने में गुजारते है. लेकिन आप जानते हैं कि ज्यादा समय मोबाइल के साथ गुजारने से सेहत पर नकारात्मक असर पड़ता हैं. मोबाइल का इस्तेमाल ज्यादा वक्त तक करने से सिर दर्द, नींद में गड़बड़ी, याददाश्त में कमजोरी, चिड़चिड़ापन, हाथ और गर्दन में दर्द और आंखों से कम दिखने की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. इतना ही नहीं मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल दिमाग की गतिविधियों को भी प्रभावित करता है.

एक अध्ययन के अनुसार, मोबाइल रेडिएशन मानव शरीर को कैसे प्रभावित करता है. अध्ययन में शामिल प्रतिभागियों को मोबाइल फोन से निकलने वाली रेडिएशन से अवगत कराया गया. अध्ययन में पाया गया कि कैसे मोबाइल का रेडिएशन, इंसान के मस्तिष्क के वेव पैटर्न में परिवर्तन करती है.

मोबाइल फोन के हानिकारक प्रभाव

मोटे तौर पर, मोबाइल रेडिएशन के दो हानिकारक प्रभाव हमारी सेहत पर पड़ते हैं. एक हीट इफेक्ट है. एक घंटे अगर आप कान पर फोन लगाकर बात करते हैं तो आपको उतनी ही गर्मी मिलती है जितनी एक मिनट में माइक्रोवेव देता है. दूसरा बॉयोलॉजिकल इफेक्ट. हमारी कोशिकाएं एक-दूसरे से संपर्क करती हैं और मोबाइल फोन विकिरण इस संचार को बाधित करते हैं.

मोबाइल कंपनियों ने दी चेतावनी

मोबाइल फोन हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया हैं, लेकिन इसका इस्तेमाल करने में हमें सावधानी बरतने की हमेशा जरूरत है. क्या आप जानते हैं सभी मोबाइल फोन की वेबसाइट फोन के अत्यधिक इस्तेमाल से संबंधित चेतावनी देती हैं, जिसे हम नजरअंदाज कर देते हैं. ये साइट हमें टॉकटाइम को सीमित करने और डिवाइस को आपके शरीर से दूरी पर रखने का सुझाव देती हैं. इसके अतिरिक्त, वे हैंड्सफ्री पर फोन का उपयोग करने की सलाह देती हैं.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read