UP Prevent Dengue: प्रदेशवासियों को मिलेगी डेंगू से राहत, सीएम योगी ने दिए डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाने के निर्देश

प्रदेश में बनेंगे डेडिकेटेड हॉस्पिटल

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के लोगों को  डेंगू के खतरे से बचाव के लिए हर जिले में डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाए जाने के निर्देश दिए हैं.

यूपी में बारिश के बाद से ही डेंगू और मलेरिया जैसी बीमीरियां पैर पसार रही हैं. खासतौर पर डेंगू के मामलों में आय दिन बढ़ोतरी हो रही है. हर एक जिले के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में डेंगू से पीड़ित मरीजों की लंबी लाइन लग रही है.

प्रदेश के लोगों को डेंगू से राहत देने के लिए सीएम योगी ने शनिवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में डेंगू और अन्य संचारी रोगों की मौजूदा स्थिति की समीक्षा करते हुए रोकथाम के लिए प्रयासों को और तेज करने के निर्देश दिए हैं.

डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाए जाएंगे

यूपी में लगातार डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. अस्पतालों मे मरीजों की संख्या हजार के पार पहुंच चुकी है. इसकी रोकथाम के लिए प्रदेश सरकार अब मेडिकल व्यवस्थाओ को दुरुस्त करने जा रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के हर जिल में  डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाने का फैसला किया है. शनिवार को सीएम ने मेडिकल विभाग के बड़े अधिकारियों के साथ बैठक की और अस्पतालों को डेंगू के उपचार के लिए सुविधाओं से युक्त होने के निर्देश दिए.

उन्होंने कहा कि कोराना काल में जिस तरह से कोविड डेडिकेटेड अस्पाल बनाए गए थे ठीक वैसे ही अब डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी से लड़ने के लिए हमें डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाए जाने की जरुरत है. सीएम ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि, इन डेडिकेटेड अस्पतालों में मरीजों के इलाज के लिए 24 घंटे चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों की उपलब्धता होनी चाहिए. साथ ही मरीज के रोग को जांचने के लिए जांच उपकरण की पर्याप्त व्यवस्था भी होनी चाहिए.

ये भी पढ़े:-

Mukhtar Ansari: गैंगस्टर मामले में सफाई देने नहीं पहुंचे मुख्तार अंसारी ,कोर्ट ने दे दिया यह आदेश

घर-घर होगी डेंगू की स्क्रीनिंग

यूपी में डेंगू के मामलों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार एक्शन मोड में है. सीएम योगी ने सभी जिलों  में डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाने के निर्देश दिए ही साथ ही प्रत्येक घर की स्क्रीनिंग की भी बात कही. चिकित्सक अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान सीएम योगी ने कहा कि, डेंगू इलाज की रोकथाम के लिए घर-घर स्क्रीनिंग कराएं और जिस भी व्यक्ति में डेंगू के लक्षण नजर आते हैं उनके समुचित इलाज की व्यवस्था कराई जाए.

 

-भारत एक्सप्रेस

Also Read