Azam Khan News: जो बोते हैं, उन्हें काटना भी होता है- आजम खान की सदस्यता रद्द हुई तो जया प्रदा का आया बयान, सपा नेता को दी ये नसीहत

jaya prada

बीजेपी नेत्री जया प्रदा

Jaya Prada on Azam Khan: सपा नेता और यूपी के पूर्व मंत्री आजम खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. रामपुर की जिला एवं सत्र अदालत ने हेट स्पीच मामले में समाजवादी पार्टी के नेता को झटका देते हुए उन्हें एमपी/एमएलए अदालत से मिली तीन साल की सजा को चुनौती देने वाली याचिका खारिज कर दी. इसके बाद पहली बार बीजेपी नेत्री जया प्रदा की प्रतिक्रिया आई है.

रामपुर से चुनाव लड़ चुकीं बीजेपी नेत्री जया प्रदा ने मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा कि जो लोग महिलाओं का सम्मान नहीं करते हैं, उनके लिए आजम खान मिसाल हैं. जो जैसा बोते हैं, उन्हें वैसा काटना भी पड़ता है. जया प्रदा ने कहा कि राजनीति हो या कुछ और, इंसान को इंसान का सम्मान करना जरूरी होता है. उन्होंने कहा कि अगर अभद्र टिप्पणी करें तो आजम लोगों के लिए मिसाल हैं और जो आजम के साथ हो रहा है, वो जो बोते हैं उन्हें काटना भी पड़ता है.

आजम खान के खिलाफ चुनाव लड़ी थीं जया प्रदा

बता दें कि जया प्रदा सपा के टिकट पर रामपुर से दो बार सांसद बन चुकी हैं. जया प्रदा ने 2004 और 2009 में रामपुर से चुनाव जीता था. हालांकि, लोकसभा चुनाव 2019 में वे बीजेपी के टिकट पर आजम खान के सामने थीं और तब दोनों तरफ से जमकर बयानबाजी हुई थी. इस चुनाव के दौरान आजम खान ने विवादित टिप्पणी की थी जिसको लेकर कोर्ट ने सपा नेता को तीन साल की सजा सुनाई है और अब आजम खान की विधानसभा की सदस्यता भी चली गई है.

सजा को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

पिछले दिनों, रामपुर की जिला एवं सत्र अदालत ने हेट स्पीच मामले में आजम खान को झटका दिया था और एमपी/एमएलए अदालत से मिली तीन साल की सजा को चुनौती देने वाली याचिका खारिज कर दी थी. इस मामले में कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद सपा नेता की याचिका खारिज करते हुए उनकी तीन साल की सजा को बरकरार रखा है. इसके बाद चुनाव आयोग ने रामपुर उपचुनाव के लिए 5 दिसंबर की तारीख का ऐलान कर दिया है.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read