कितने चरणों में हो सकता है गुजरात विधानसभा चुनाव ? चुनाव आयोग ने बुलाई प्रेस कॉन्फ्रेंस

गुजरात चुनाव पर चुनाव आयोगी की PC

गुजरात चुनाव पर चुनाव आयोगी की PC

गुजरात में विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर का दौर जारी है. इसी बीच मुख्य चुनाव आयोग आज दोपहर 12 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा. इस दौरान चुनाव आयोग गुजरात विधानसभा चुनावों के लिए तारीखों का ऐलान कर सकता है. ऐसा माना  जा रहा है कि चुनाव आयोग ने इसी से संबंधित प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है . बता दें कि चुनाव आयोग हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनावों के लिए तारीखों का ऐलान कर चुका है. हिमाचल प्रदेश में एक ही चरण में चुनाव को कराया जाएगा. हिमाचल में 12 नवंबर को वोटिंग और 8 दिसंबर का मतगणना होगी

कितने चरणों में हो सकता है गुजरात चुनाव 

आपको बता दें कि ऐसा भी माना जा रहा है कि इस बार भी गुजरात में चुनाव 2 चरणों में कराया जा सकता है. गुजरात में पिछली भी विधानसभा चुनाव 2 चरणों में कराया गया था. गुजरात विधानसभा की 182 सीट के लिए चुनाव दिसंबर तक होने वाले हैं और इसके लिए चुनाव आयोग लंबे समय से तैयारियों में जुटा हुआ है. गुजरात विधानसभा का कार्यकाल अगले साल 18 फरवरी को खत्म हो रहा है. और चुनाव आयोग इससे पहले ही गुजरात विधानसभा चुनाव की नतीजे घोषित कर देगा.

हिमाचल के साथ नहीं होंगे गुजरात चुनाव

बता दें कि 2017 में भी चुनाव आयोग ने गुजरात और हिमाचल में एक साथ चुनाव नहीं कराया था. दोनों राज्यों में अलग-अलग तारीखों पर चुनाव की घोषणा की गई थी, लेकिन मतगणना 18 दिसंबर को एक साथ हुई थी. इस बार भी चुनाव आयोग हिमाचल के लिए तारीखों का ऐलान कर चुका है. गुजरात की तारीखों का ऐलान आज करेगा.

कांग्रेस ने साधा था चुनाव आयोगा पर निशाना

बता दें कि कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर एक साथ चुनाव नहीं कराने को लेकर निशाना साधा था कि. चुनाव आयोगा ने हिमाचल में चुनाव का ऐलान दिया लेकिन गुजरात के लिए नहीं. एक साथ चुनाव नहीं करा कर चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को और बड़े-बड़े वादे करने और उद्घाटन करने का समय दे दिया है.

 27 साल से सत्ता पर काबिज है बीजेपी

गुजरात में बीजेपी 27 साल से सत्ता पर काबिज है. और गुजरात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गढ़ माना जाता है. पिछली बार के चुनावों में कांग्रेस ने बीजेपी को कड़ी टक्कर दी थी. लेकिन इस बार मामला त्रिकोणिय बना हुआ है. जहां बीजेपी एक तरफ मजबूत स्थिति में है तो वहीं आम आदमी पार्टी बीजेपी की चुनौती बनी हुई है

 

Also Read