UP News: पुलिस लाइन में करती हैं देह व्यापार का धंधा, दो पुलिसकर्मियों की पत्नियों पर आरोप, SP ने कहा- झूठा है आरोप

Sonbhadra News: पुलिस अधीक्षक ने इस मामले का खंडन करते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों और उनकी पत्नियों पर लगे देह व्यापार के आरोप झूठे और मनगढ़ंत हैं.

UP News

प्रतीकात्मक तस्वीर

Sonbhadra News: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले की पुलिस लाइन में सेक्स रैकेट का सनसनीखेज मामला अब एक नया मोड़ ले लिया है. पुलिस लाइन में देह व्यापार का धंधा करने और मादक पदार्थ बेचने का आरोप लगा था. इस मामले का पुलिस अधीक्षक ने खंडन करते हुए कहा कि ये आरोप झूठा और मनगढ़ंत हैं.

पुलिस लाइन में रहने वाले दो पुलिसकर्मियों की पत्नियों पर देह व्यापार का धंधा करने और मादक पदार्थ बेचने का आरोप लगा था. ये आरोप कोई नहीं बल्कि वहां रहने वाले 17 पुलिसकर्मी थे. इन आरोप के सामने आने के बाद एसपी ने जांच टीम गठित किया था.

एसपी ने किया खंडन

जांच के बाद पुलिस अधीक्षक ने इस मामले का खंडन करते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों और उनकी पत्नियों पर लगे देह व्यापार के आरोप झूठे और मनगढ़ंत है. सोशल मीडिया और अखबरों की ये खबर (UP News) असत्य और निराधार है. उन्होंने कहा कि इस प्रकार का एक शिकायत पत्र अज्ञात व्यक्तियों द्वारा दिया गया था. प्रतिसार निरीक्षक की जांच में झूठा और निराधार पाया गया.

मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की मांग

एसपी सोनभद्र डॉ. यशवीर सिंह ने बताया कि प्रार्थना पत्र में जो शिकायतकर्ता दर्शाए गए हैं, उन सभी ने कोई शिकायत न देना, अपने फर्जी नाम और हस्ताक्षर किसी अज्ञात के द्वारा किया जाना बताया है. उन्होंने बताया कि उन पुलिसकर्मियों द्वारा अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है.

ये भी पढ़ें : IPS Laxmi Singh: आईपीएस लक्ष्मी सिंह बनीं प्रदेश की पहली महिला पुलिस कमिश्नर, संभालेंगी नोएडा की कमान, रच चुकी हैं कई कीर्तिमान

गौरतलब है कि 17 पुलिसकर्मियों द्वारा एक शिकायत दिए जाने का मामला सामने आया था. जिसमें आरोप लगया गया था कि पुलिस लाइन में रहने वाले दो पुलिसकर्मियों की पत्नियां देह व्यापार का धंधा करती हैं, साथ ही मादक पदार्थ भी बेचती हैं. इताना ही नहीं आरोप था कि दोनों महिलाओं ने वाराणसी और प्रयागराज में लाखों रुपए की संपति खड़ी कर दी है. शिकायत पत्र में इंस्पेक्टर, हेड कांस्टेबल और कुछ महिला कांस्टेबलों का नाम भी था. बहरहाल, पुलिस अधीक्षक सोनभद्र डॉ. यशवीर सिंह की जांच में ये पूरा मामला झूठा और निराधार पाया गया है.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read