Lucknow building collapse: इमारत हादसे के बाद एक्शन में पुलिस, हिरासत में सपा विधायक शाहिद मंजूर का बेटा, अलाया अपार्टमेंट में है पार्टनर

Building collapse: लखनऊ पुलिस के मुताबिक, यूपी के पूर्व मंत्री और सपा नेता शाहिद मंजूर के बेटे नवाजिश मंजूर को हिरासत में ले लिया गया है. अपार्टमेंट का जमीन दस्तावेज शाहिद के बेटे नवाजिश और भतीजे तारिक के नाम था.

Lucknow Building Collapse

लखनऊ हादसे की जांच में जुटी पुलिस (फोटो ट्विटर)

Lucknow building collapse: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के वजीर हसनगंज रोड स्थित चार मंजिला अलाया अपार्टमेंट मंगलवार रात को अचानक गिर जाने से हड़कंप मच गया. आज (बुधवार) सुबह तक प्रशासन के मुताबिक, 14 लोगों का रेस्क्यू किया जा चुका है. वहीं इस हादसे के बाद अब सरकार एक्शन मोड में आ गई है मामले की जांच शुरू कर दी गई है. खबरों के मुताबिक, इस इमारत का निर्माण अवैध तरीके से किया गया था और इसमें कई नेताओं के फ्लैट हैं.

लखनऊ पुलिस के मुताबिक, यूपी के पूर्व मंत्री और सपा नेता शाहिद मंजूर के बेटे नवाजिश मंजूर को हिरासत में ले लिया गया है. अपार्टमेंट की जमीन दस्तावेज शाहिद के बेटे नवाजिश और भतीजे तारिक के नाम था.

इमारत में दो फ्लैट विधायक के बेटे के नाम थे

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, धराशाई हुई इमारत में विधायक के बेटे की हिस्सेदारी थी. इमारत बनने के बाद दो फ्लैट भी विधायक के बेटे के नाम पर थे. लेकिन फिलहाल इमारत में इनके परिवार को कोई सदस्य नहीं रहता था. हिरासत में लिए गए नवाजिश मंजूर मेरठ की किठौर विधानसभा से विधायक शाहिद मंजूर के बेटा है. फिलहाल पुलिस उनके बेटे को हिरासत में लेकर लखनऊ आ गई है.

 

ये भी पढ़ें-   Republic Day: पहली बार इस मुस्लिम देश के राष्ट्रपति होंगे गणतंत्र दिवस पर चीफ गेस्ट, समारोह में शामिल होने पहुंचे भारत, जानें कौन हैं अल-सीसी

 

जानकारी के मुताबिक जिस इमारत में यह हादसा हुआ है. उस बिल्डिंग का एग्रीमेंट नवाजिश मंजूर ने फायद यजदानी उर्फ सेठु से किया था. जिसके बदले में उन्होंने शाहिद मंजूर के परिवार को दो फ्लैट दिए थे. जिसके बाद कुछ सालों तक एक फ्लैट में पहले शाहिद मंजूर रहे और दूसरे फ्लैट में उनकी बेटी अपने पति के साथ रह रही थीं. खबरों के मुताबिक, 12 फ्लैट बनाए गए और 10 का बैनामा नवाजिश और तारिक ने ही किया था.

‘हादसे की जांच के बाद कार्रवाई होगी’

इमारत गिरने के हादसे पर डीजीपी (DGP) डीएस चौहान ने बताया कि,”12 घंटे से रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है, इसमें 5-6 घंटे और लग सकते हैं। जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है वे सुरक्षित हैं. अभी किसी को हिरासत में नहीं लिया गया है प्राथमिकी दर्ज़ की जाएगी. हादसे के कारणों की जांच व कार्रवाई की जाएगी”

– भारत एक्सप्रेस

 

Also Read