Lucknow Building Collapse: सपा नेता की मां के बाद पत्नी ने भी दम तोड़ा, अब्बास हैदर बोले- बॉडी ले जाने से रोक रही थी पुलिस

Lucknow Building Collapse: सपा नेता ने कहा कि अधिकारी सिर्फ वाहवाही लूटने के लिए फोटो खिंचवाते और ट्वीट करते रहे. उन्होंने आरोप लगाया कि जो बिल्डिंग गिरी, वह इन अधिकारियों की मिलीभगत से बनी थी. 

Lucknow Building Collapse

लखनऊ हादसे में सपा प्रवक्ता अब्बास हैदर की मां और पत्नी की मौत

Lucknow Building Collapse: यूपी की राजधानी लखनऊ में मंगलवार को अलाया अपार्टमेंट की बिल्डिंग अचानक जमींदोज हो गई, जिसके बाद अफरातफरी मच गई. बिल्डिंग गिरने से कई लोग मलबे में दब गए. बीते 16 घंटों से चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन में लोगों को बचाने की कोशिशें जारी हैं. वहीं इस हादसे में सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अब्बास हैदर की मां बेगम हैदर के बाद अब उनकी पत्नी उज्मा हैदर की भी मौत हो गई है. अब्बास हैदर ने इस हादसे को लेकर प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा कि रेस्क्यू आपरेशन ठीक से नहीं चलाया गया, इसमें केवल खानापूर्ति की गई.

सपा नेता ने प्रशासन पर लगाए आरोप

सपा नेता ने कहा कि अधिकारी सिर्फ वाहवाही लूटने के लिए फोटो खिंचवाते और ट्वीट करते रहे. उन्होंने आरोप लगाया कि जो बिल्डिंग गिरी, वह इन अधिकारियों की मिलीभगत से बनी थी. अब्बास हैदर ने कहा कि हादसे के बाद पुलिस बॉडी ले जाने से भी रोक रही थी. वहीं सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने अब्बास हैदर की मां और पत्नी की मौत पर दुख जताया. उन्होंने ट्वीट किया, “समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता अब्बास हैदर की माता बेगम हैदर एवं पत्नी उज़्मा अब्बास का निधन, अत्यंत दुःखद. ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शांति दें.”

जांच के लिए कमेटी गठित

इसी बीच इमारत गिरने के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है. इस कमेटी में लखनऊ के आयुक्त रोशन जैकब, संयुक्त पुलिस आयुक्त लखनऊ पीयूष मोर्डिया और चीफ इंजीनियर पीडब्ल्यूडी लखनऊ को शामिल किया गया है. यह कमेटी एक सप्ताह में जिम्मेदार लोगों को चिन्हित कर रिपोर्ट देगी.

 

दूसरी तरफ, हादसे के 16 घंटे बाद भी राहत और बचाव कार्य जारी रहा. मलबे को हटाकर उसमें दबे लोगों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है. ड्रिल मशीन से एनडीआरएफ की टीम मलबे के टुकड़ों को तोड़ने में जुटी हुई हैं, जिससे जल्द से जल्द मलबे में दबे हुए लोगों को सुरक्षित निकाला जा सके.

ये भी पढ़ें: Lucknow Building Collapse: टेली टेक्टर और लाइफ डिटेक्टर ने दी मलबे में दबे जिंदा लोगों की जानकारी, रेस्क्यू किए गए 16 लोग, देखें VIDEO

जानकारी के मुताबिक, अभी तक 14 लोगों को रेस्क्यू किया गया है. करीब 5 लोगों के अभी भी बिल्डिंग के बेसमेंट में फंसे होने की आशंका है. उनको लगातार ऑक्सीजन देने का प्रयास हो रहा है. इनसे फोन पर भी बात की गई है. हादसे के वक्त अपार्टमेंट में कई लोग मौजूद थे. मलबे में करीब दो दर्जन से ज्यादा लोग दब गए थे.

हादसे में घायल हुए लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है. अपार्टमेंट में कुछ दिन से मरम्मत और पाइप लाइन का काम चल रहा था. अपार्टमेंट अचानक जमींदोज कैसे हो गया, ये अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है. इस बिल्डिंग का निर्माण यजदान बिल्डर्स ने किया था.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read