The Kashmir Files: ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर इजराइली फिल्म मेकर के बयान पर मचा बवाल, IFFI जूरी बोर्ड ने कहा- ये उनकी निजी राय

The kashmir files: जूरी हेड नादव लापिड पर जूरी बोर्ड ने कहा कि कि एक जूरी के रूप में हमें फिल्म को लेकर न्याय करने के लिए नियुक्त किया गया है. हम किसी भी फिल्म पर किसी भी प्रकार की राजनीतिक टिप्पणी में शामिल नहीं होते हैं.

the kashmir files

द कश्मीर फाइल्स फिल्म पर विवाद

The Kashmir Kiles: भारत में सुपरहिट रही ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर एक बार फिर विवाद गहराया गया है. इस बार इजरायली फिल्म निर्माता नादव लापिड(Nadav Lapid) ने कश्मीर फाइल्स पर अपना बयान दिया था जिसमें उन्होने फिल्म को अश्लील और प्रोपगेंडा पर आधारित बताया था. जिसके बाद से इस बवाल मचा हुआ है. इस बीच जूरी बोर्ड ने जूरी हेड नादव के बयान से अपनी दूरी बना ली है, उन्होने कहा है कि ये उनकी निजी राय हो सकती है, बोर्ड से इसका कोई लेना देना नहीं है. नादव लापड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (IFFI) के जूरी हेड हैं. उन्होंने कहा कि हम सभी परेशान हैं कि ऐसी फिल्म को इस समारोह में दिखाया गया है. यह फिल्म बेहद ही वल्गर है.

बता दें कि विवेक अग्निहोत्री की लिखित और निर्देशित ‘द कश्मीर फाइल्स 90 के दशक में कश्मीर में कश्मीरी पंडितों पर हुए अत्याचार और उनके पलायन पर आधारित फिल्म है. लापिड ने अपने इस बयान के बाद एक नए विवाद को जन्म दे दिया है. जिसके बाद उन पर कश्मीरी पंडितों के दुख दर्द को कुरेदने का आरोप लग रहा है.

इजरायली फिल्म निर्माता नादव लापिड ने क्या कहा था

नादव लापिड ने कहा था कि ये फिल्म हमें अश्लील और प्रोपेगेंडा बेस्ड लगी. इतने प्रतिष्ठित फिल्म समारोह के लिए ये फिल्म उचित नहीं है. मैं आप लोगों के साथ अपनी फीलिंग को खुले तौर पर इसीलिए शेयर कर सकता हूं, क्योंकि इस समारोह की आत्मा ही यही है कि हम यहां आलोचनाओं को स्वीकार करते हैं और उस पर चर्चा करते हैं.’ उन्होने आगे कहा कि इस समारोह में हमने डेब्यू कॉम्पटीशन में 7 फिल्में देखीं और इंटरनेशनल कॉम्पटीशन में 15 फिल्में देखीं. इसमें से 14 फिल्म सिनेमैटिक फीचर्स वाली थीं. 15वीं फिल्म द कश्मीर फाइल्स से हम सभी को परेशान और हैरान करने वाली थी.’

जूरी बोर्ड ने क्या कहा

जूरी हेड नादव लापिड पर उन्होने कहा कि एक जूरी के रूप में हमें फिल्म को लेकर न्याय करने के लिए नियुक्त किया गया है. हम किसी भी फिल्म पर किसी भी प्रकार की राजनीतिक टिप्पणी में शामिल नहीं होते हैं और अगर किसी की तरफ से ऐसा किया जाता है तो वह उसकी व्यक्तिगत राय होगी.

इजरायली राजदूत ने क्या कहा ?

गोवा में 53वें इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया में लापिड के बयान पर इजरायली राजदूत नाओर गिलोन ने कहा कि मुझे उनके बयान पर शर्म आती है. लैपिड जब ये बातें कह रहे थे. इस पर भारत के सूचना और प्रसारण मंत्रालय के आधिकारिक सूत्रों का कहना कि इजरायली राजदूत ने इस पर पहले ही बयान दे हमें इस पर अब कुछ कहने की जरुरत नहीं हैं

स्वरा भास्कर ने किया लापिड का सपोर्ट

वहीं इस मामले पर सभी लापिड की आलोचना कर रहे हैं तो कुछ लोग उनको सपोर्ट कर रहे हैं. सपोर्ट करने वालों में स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) भी शामिल हैं. इसके अलावा फिल्म निर्देशक ने विवेक अग्निहोत्री (Vivek Agnihotri) इस पर निशाना साधा था उन्होने लिखा था गुड मॉर्निंग, सच सबसे खतरनाक चीज है. ये लोगों को झूठा बना.

कश्मीरों पंडितों ने क्या कहा ?

वहीं इस पूरे मामले पर कश्मीरों पंंडितो का कहना है कि उनका बयान काफी शर्मनाक है, ऐसे कहकर उन्होने आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई को मजाक जैसा बताया है.

– भारत एक्सप्रेस

 

 

Also Read