Himachal Election: शिमला में प्राइवेट गाड़ी में मिली EVM, हंगामे के बाद पोलिंग पार्टी सस्पेंड, कांग्रेस ने लगाया गड़बड़ी का आरोप

Himachal Pradesh Election

ईवीएम चेक करते अधिकारी

Himachal Election: हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों (Himachal Pradesh Assembly Elections) के लिए शनिवार को मतदान हुए. इस बीच, एक बार फिर ईवीएम को लेकर विवाद सामने आया जब शिमला जिले के रामपुर इलाके में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शनिवार रात पोलिंग पार्टी को एक निजी वाहन में ईवीएम ले जाने के आरोप में रोका. इसको लेकर कांग्रेस ने गड़बड़ी के आरोप लगाए हैं. हालांकि, हंगामे के बाद पोलिंग पार्टी को निलंबित कर दिया गया.

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इसको लेकर जमकर हंगामा किया और विरोध प्रदर्शन किया. साथ ही उन्होंने मतदान दल पर ईवीएम से छेड़छाड़ करने का भी आरोप लगाया, जिसके बाद जिला चुनाव आयोग के अधिकारियों ने मतदान दल के सदस्यों को तुरंत निलंबित कर दिया.

कांग्रेस विधायक नंद लाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “ईवीएम को एक निजी कार में ले जाया जा रहा था, हमने इसका पीछा किया और पुलिस एवं चुनाव आयोग के अधिकारियों को भी सूचित किया।” नियमों के मुताबिक, मतदान प्रक्रिया समाप्त होने के बाद ईवीएम को सरकारी वाहनों से मतगणना केंद्र तक ले जाना होता है.

कांग्रेस ने लगाया ईवीएम से छेड़छाड़ का आरोप

पूरे मामले पर जिला चुनाव आयोग के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें मतदान समाप्त होने के बाद सूचना मिली कि दत्तनगर -49 में तैनात पोलिंग पार्टी संख्या 146 निजी वाहन में ईवीएम/वीवीपैट ले जा रही है जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर एचपी-03डी-2023 है. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि बीजेपी के इशारे पर ईवीएम/वीवीपैट मशीनों से छेड़छाड़ की मंशा से ले जाया जा रहा था.

ये भी पढ़ें- Himachal Election 2022: शाम 6 बजे तक 65.92 फीसदी मतदान , दुनिया के सबसे ऊंचे पोलिंग बूथ पर 99% वोटिंग

बीजेपी-कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में मशीन चेक की गई

ईवीएम को निजी वाहन में ले जाने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने विरोध कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को समझा-बुझाकर शांत करने का प्रयास किया और ईवीएम/वीवीपीएटी मशीनों को स्ट्रांग रूम में भेज दिया. चुनाव आयोग के अधिकारियों ने स्ट्रांग रूम के बाहर कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में ईवीएम/वीवीपीएटी मशीनों की बारीकी से जांच की और दावा किया कि मशीनों को ठीक से सील किया गया था और कोई छेड़छाड़ नहीं की गई थी. बता दें कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के नतीजे 8 दिसंबर को गुजरात के साथ ही घोषित किए जाएंगे.

    Tags:

Also Read