Telecom Minister Order: भ्रष्टाचार पर मोदी सरकार का कड़ा प्रहार, अश्विनी वैष्णव ने भ्रष्टाचार में लिप्त होने पर 10 अधिकारियों को किया जबरन रिटायर

Voluntary Retirement: इसके पहले भी केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव कई अधिकारियों की इसी तरह छुट्टी कर चुके हैं. रेलवे विभाग में भी लगभग 40 अधिकारियों को उनके निराशाजनक प्रदर्शन और संदिग्ध हरकतों के कारण मजबूरन रिटायर कर दिया था.

Telecom Minister Order

दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव

Telecom Minister Order: मोदी सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टोलरेंस की नीति के तहत काम कर रही है. दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने टेलिकॉम डिपार्टमेंट के 10 सीनियर अफसरों को जबरन रिटायरमेंट पर भेज दिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इन सभी अधिकारियों को भ्रष्टाचार में लिप्त होने के संदेह के चलते ऐसा किया गया है. सरकार ने अलग-अलग कानूनों में मिली शक्तियों का उपयोग करते हुए इन अधिकारियों को बाहर का रास्ता दिखाया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भ्रष्टाचार और लापरवाही की शिकायतें मिलने पर मंत्री (Telecom Minister Order) अश्विनी वैष्णव ने एक संयुक्त सचिव समेत दूरसंचार विभाग के 10 वरिष्ठ अधिकारियों को जबरन रिटायर कर दिया. इन अधिकारियों में 9 अधिकारी निदेशक स्तर पर काम कर रहे थे.

जानकारी के अनुसार, सरकार ने सीसीएस (पेंशन) नियम, 1972 के पेंशन नियम 48 की धारा 56 (जे) में मिली शक्तियों का उपयोग करते हुए इन अधिकारियों की छंटनी की है.

सुशासन दिवस पर लिया फैसला

दरअसल, दूरसंचार मंत्री (Telecom Minister Order) अश्विनी वैष्णव ने ये फैसला केंद्र सरकार द्वारा हर साल मनाए जाने वाले सुशासन दिवस की पूर्व संध्या पर लिया है. नरेंद्र मोदी सरकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन को सुशासन दिवस के तौर पर मनाती है.

बता दें कि बीजेपी शासित राज्यों में भष्टाचार में लिप्त पाए जाने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों कार्रवाई की जाती है. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी लापरवाही के आरोप में आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर समेत कई अधिकारियों और कर्मचारियों को जबरन रिटायर किया था.

ये भी पढ़ें : Atal Bihari Vajpayee: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति और PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि

गौरतलब है कि इसके पहले भी केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव कई अधिकारियों की इसी तरह छुट्टी कर चुके हैं. रेलवे विभाग में भी लगभग 40 अधिकारियों को उनके निराशाजनक प्रदर्शन और संदिग्ध हरकतों के कारण मजबूरन रिटायर कर दिया था.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read