Kangana Ranaut: ‘पठान’ की रिलीज के दिन कंगना ने ट्वीट कर कहा – पैसों के लिए नहीं है सिनेमा

Kangana Ranaut On Twitter:  कंगना रनौत के ट्वीट पर कि कैसे फिल्म उद्योग ‘क्रैश’ तरीके से फिल्मों की सफलता का जश्न मनाता है, ट्विटर यूजर्स ने उन्हें ट्रोल किया

Kangana Ranaut:

कंगना रनौत,शाहरुख खान(फोटो)

Kangana Ranaut On Twitter:  कंगना रनौत ट्विटर पर वापस आ गई हैं. लगभग दो साल के बाद अभिनेत्री ने मंगलवार को अपने ट्विटर अकाउंट पर यह कहते हुए पोस्ट किया कि ‘यहां आकर अच्छा लगा’. 24 घंटों के भीतर, कंगना ने एक ट्विटर थ्रेड के साथ एक विवाद शुरू कर दिया. कंगना रनौत ने ट्वीट किया कि फिल्म इंडस्ट्री “मूर्ख” है – हालांकि एक्ट्रेस ने किसी का नाम नहीं लिया है मगर उनके ट्विट को देखकर तो ऐसा लगता है कि वो शाहरुख खान की हालिया रिलीज पठान पर निशाना साध रही हैं. शाहरुख खान की फिल्म आज ही रिलीज हुई है.

फिल्म इंडस्ट्री पर साधा निशाना

बुधवार की सुबह तीन-ट्वीट में, कंगना ने लिखा, “फिल्म उद्योग इतना भद्दा और कच्चा है कि जब भी वे किसी भी प्रयास, निर्माण, कला की सफलता को प्रोजेक्ट करना चाहते हैं. तो वे आपके चेहरे पर चमकती मुद्रा अंकों को फेंक देते हैं – जैसे कि कला के पास कोई दूसरा उद्देश्य नहीं है यह उनके निम्न स्तर और उनके द्वारा जीते हुए वंचित जीवन को उजागर करता है.

पैसों के लिए नहीं है सिनेमा

”उन्होंने कहा कि कला का उद्देश्य पैसा कमाना नहीं है और कुछ कलाकार ‘राष्ट्र के ताने-बाने को प्रदूषित’ कर रहे हैं – “प्रारंभिक रूप से कला मंदिरों में खिली और साहित्य, थिएटर और सिनेमाघरों तक पहुंची. यह एक उद्योग है लेकिन अन्य अरबों,ट्रिलियन डॉलर के व्यवसायों की तरह प्रमुख आर्थिक लाभ के लिए नहीं बनाया गया है इसलिए कला और कलाकारों की पूजा की जाती है न कि उद्योगपतियों या अरबपतियों की है. इसलिए भले ही कलाकार राष्ट्र में कला और संस्कृति के तंतुओं को प्रदूषित करने में लिप्त हों, लेकिन उन्हें इसे बेशर्मी से नहीं बल्कि विवेकपूर्ण तरीके से करना चाहिए.

ये भी पढ़ें-Money Laundering Case: दुबई जाना चाहती हैं जैकलीन फर्नांडिस, कोर्ट में नई याचिका दाखिल कर मांगी इजाजत

बता दें कि कंगना ने किसी फिल्म या कलाकार का नाम नहीं लिया – वहीं ट्विटर यूजर्स ने उन्हें पठान की सफलता से ईर्ष्या करने वाला बताया है. एक यूजर ने ट्वीट किया ‘वह पठान से जलती है’ कुछ यूजर्स कंगना की इस बात से सहमत जरूर थे कि आर्ट और कॉमर्स को मिक्स नहीं करना चाहिए.

-भारत एक्सप्रेस

Also Read